Top Newsराष्ट्रीय न्यूज

राज्यसभा में बजट सत्र का पहला चरण हुआ समाप्त, जानिए कितने प्रतिशत रही प्रोडक्टिविटी ?

बजट सत्र के पहले चरण में राज्यसभा से तीन बिल भी हुए पास

नई दिल्ली। राज्यसभा में बजट पर चर्चा समाप्त हो गई है। वित्त मंत्री ने चर्चा का जवाब देते हुए सरकार को घेरने वाले हर एक सवाल का जवाब दिया है। इसके साथ ही राज्यसभा में बजट का पहला चरण समाप्त हो गया है। बजट सत्र के पहले चरण में राज्यसभा से तीन बिल भी पास हुए।

डी.डी न्यूज की खबर के मुताबिक सदन में इस दौरान 99% प्रोडक्वटी के साथ काम हुआ। बजट चर्चा पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के जवाब के साथ ही सदन की कार्यवाही 8 मार्च 2021 सुबह 9 बजे तक के लिए स्थगित हो गई है। राज्यसभा में बजट पर हुई चर्चा का जवाब वित्त मंत्री  निर्माला सीतारमण ने दिया। इस दौरान वह विपक्षी दलों पर जमकर बरसीं। उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा और कहा कि सरकार की योजनाएं केवल गरीबों को लाभ पहुंचाने के लिए हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में अनाज, 8 करोड़ लोगों को मुफ्त में खाना बनाने वाली गैस उपलब्ध कराई गई है और 40 करोड़  किसानों, महिलाओं, दिव्यांगों और गरीबों और जरूरतमंदों को सीधे नकद राशि दी गई है।

राज्यसभा में वित्त मंत्री ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष में कुछ लोगों के लिए यह आदत बन गई है कि हम गरीबों के लिए क्या कर रहे हैं। सीतारामण ने सरकार के काम की लंबी फेहरिस्त गिनाई और प्रधानमंत्री आवास योजना , सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना आदि योजनाओं का ज़िक्र करते हुए कांग्रेस को कठघरे में खड़ा किया।

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने 2019 के बाद से MSME के लिए कई कदम उठाए हैं। आत्मनिर्भर भारत कोष के तहत हमने मदद की है। उन्होंने कहा कि हमारी विचारधारा अंत्योदय के लिए लगातार काम करने के साथ-साथ wealth creators का सम्मान करना भी है। मनरेगा की कमियों को दूर कर उसके बजट में लगातार बढ़ोत्तरी की गई है।

राज्यसभा के इस छोटे सत्र में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक, पोर्ट अथॉरिटी विधेयक समेत तीन विधेयकों को पारित कराने में कामयाबी हासिल हुई। इसके अलाव राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर 15 घंटे से ज्यादा समय तक चली मैराथन बहस का भी राज्यसभा गवाह बना।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button