Top Newsलाइफस्टाइल

वैक्सीन मिलने के बाद अब जल्द ही भारत को मिलेगी कोरोना की पहली दवा, दूसरा क्लीनिकल ट्रायल पूरा

कंपनी ने सोमवार को बताया कि पिछले साल नवंबर में दूसरे चरण का ट्रायल शुरू हुआ था। पुणे स्थित बीजे राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं ससून जनरल अस्पताल और बेंगलुरु स्थित विक्टोरिया मेडिकल कॉलेज एवं रिसर्च इंस्टीट्यूट में 40 मरीजों पर यह परीक्षण किया गया।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वैक्सीन आने के बाद अब दुनिया को इस महामारी के खिलाफ पहली दवा मिलने की भी उम्मीद बढ़ गई है। पीएनबी वेस्पर लाइफ साइंसेज ने अपनी कोरोना की दवा पीएनबी-001 के दूसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है। कंपनी ने कहा है कि वह जल्द ही सरकार से इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति मांगेगी।

कोच्चि स्थित इस कंपनी की प्रयोगशाला इंग्लैंड में है। भारतीय दवा महानियंत्रक (DCGI) ने पिछले साल सितंबर में कंपनी को जीपीपी-बालाडोल के दूसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की मंजूरी दी थी। कंपनी से ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मध्यम स्तर के संक्रमण के मरीजों पर ट्रायल करने को कहा गया था।

कंपनी ने सोमवार को बताया कि पिछले साल नवंबर में दूसरे चरण का ट्रायल शुरू हुआ था। पुणे स्थित बीजे राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं ससून जनरल अस्पताल और बेंगलुरु स्थित विक्टोरिया मेडिकल कॉलेज एवं रिसर्च इंस्टीट्यूट में 40 मरीजों पर यह परीक्षण किया गया।

कोरोना की दवा का ट्रायल शुरू करने वाली दुनिया की बनी पहली कंपनी

कंपनी के प्रमोटर और सीईओ पीएन बलराम ने कहा, ‘हम सोमवार को ही डीसीजीआइ को क्लीनिकल रिपोर्ट सौंप देंगे।’ उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा स्थापित मानकों और अन्य अंतरराष्ट्रीय क्लीनिकल ट्रायल के समरूप ही इस दवा का परीक्षण किया गया। प्रेट्र ने पिछले साल 11 सितंबर को ही यह खबर दी थी कि पीएनबी वेस्पर को डीसीजीआइ से कोरोना की दवा के दूसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल की मंजूरी मिल गई है। इसके के साथ ही कोच्चि स्थित यह कंपनी नए रासायनिक फॉर्मूले के साथ कोरोना की दवा का ट्रायल शुरू करने वाली दुनिया की पहली कंपनी बन गई थी।

कंपनी ने कहा कि ट्रायल के दौरान मरीजों को दिन में तीन बार जीपीपी-बालाडोल के 100 ग्राम दिए गए। मरीजों में दवा के प्रतिकूल प्रभाव के आकलन और उनकी किडनी, लिवर और प्रमुख अंगों की स्थिति का विश्लेषण कर सुरक्षा की परख की गई। सारे आकलन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा स्थापित मानदंडों के आधार पर किए गए। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में अस्पताल में भर्ती कोरोना के मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए जीपीपी-बालाडोल एक विकल्प हो सकती है। बलराम ने कहा कि ट्रायल में शामिल किसी भी मरीज में किसी तरह का गंभीर प्रतिकूल प्रभाव नहीं देखा गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button