INTERNATIONALTop Newsमध्य प्रदेशराष्ट्रीय न्यूजलाइफस्टाइल

आया खास मेहमान…भारत की धरती पर चीतों का आगमन…जानिए चीते की कीमत!

चीतों को आज़ाद करने के बाद बोले PM Modi, कहा देश में नई ऊर्जा के साथ होगा चीतों का पुर्वास!

DESK : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह मध्य प्रदेश के कुनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए गए चीतों को आज़ाद किया। देश में आज चारो तरफ इन्ही चीतों के बारे में चर्चा की जा रही हैं। ये चीते भारत में बड़ी चर्चा का विषय बन गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने इन्हे अपने जन्मदिन पर देश को समर्पित किया है।

भोजपुरी ,हिन्दी ,गुजराती ,मराठी , राजस्थानी ,बंगाली ,उड़िया ,तमिल, तेलगु ,की भाषाओं की पूरी फिल्म देखने के लिए इस लिंक को क्लीक करे:-http://www.aaryaadigital.com/ आर्या डिजिटल OTT पर https://play.google.com/store/apps/de... लिंक को डाउनलोड करे गूगल प्ले स्टोर से

राष्ट्र को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने नामीबिया की सरकार को धन्यवाद देते हुए नागरिकों को बधाई दी: “आज, चीता दशकों बाद हमारी भूमि पर वापस आए हैं। इस ऐतिहासिक दिन पर, मैं सभी भारतीयों को बधाई देना चाहता हूं और नामीबिया की सरकार को भी धन्यवाद देना चाहता हूं। यह उनकी मदद के बिना संभव नहीं हो सकता था।

भोजपुरी ,हिन्दी ,गुजराती ,मराठी , राजस्थानी ,बंगाली ,उड़िया ,तमिल, तेलगु ,की भाषाओं की पूरी फिल्म देखने के लिए इस लिंक को क्लीक करे:-http://www.aaryaadigital.com/ आर्या डिजिटल OTT पर https://play.google.com/store/apps/de... लिंक को डाउनलोड करे गूगल प्ले स्टोर से

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार- उन्होंने कहा, “दशकों पहले जैव विविधता की सदियों पुरानी कड़ी टूट गई थी और विलुप्त हो गई थी, आज हमारे पास इसे फिर से जोड़ने का मौका है। इन चीतों के साथ-साथ भारत की प्रकृति-प्रेमी चेतना भी पूरी ताकत से जागी है।

भोजपुरी ,हिन्दी ,गुजराती ,मराठी , राजस्थानी ,बंगाली ,उड़िया ,तमिल, तेलगु ,की भाषाओं की पूरी फिल्म देखने के लिए इस लिंक को क्लीक करे:-http://www.aaryaadigital.com/ आर्या डिजिटल OTT पर https://play.google.com/store/apps/de... लिंक को डाउनलोड करे गूगल प्ले स्टोर से

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि “हमने 1952 में देश से चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया, लेकिन दशकों तक उनके पुनर्वास के लिए कोई सार्थक प्रयास नहीं किया गया। आज जब हम आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हैं, तो देश ने एक नई ऊर्जा के साथ चीतों का पुनर्वास करना शुरू कर दिया है।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button