Breaking Newsमनोरंजन

Rajiv Kapoor Death: इस फिल्म की वजह से राज कपूर और बेटे राजीव कपूर के बीच आई थी दरार

कपूर ख़ानदान पर एक बार फिर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर के जाने के बाद आज उनके छोटे भाई और बॉलीवुड एक्टर राजीव कपूर का निधन हो गया है

नई दिल्ली : कपूर ख़ानदान पर एक बार फिर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर के जाने के बाद आज उनके छोटे भाई और बॉलीवुड एक्टर राजीव कपूर का निधन हो गया है। 58 वर्षीय राजीव कपूर का निधन हार्ट अटैक की वजह से हुआ है। एक्टर के निधन से न सिर्फ उनके परिवार में, बल्कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री में शोक की लहर है। सेलेब्स और फैंस सोशल मीडिया के जरिए राजीव कपूर को श्रद्धांजलि दे रहे हैं।

आपको बता दें कि राजीव कपूर फिल्म अभिनेता राज कपूर के सबसे छोटे बेटे थे। राजीव का जन्म 25 अगस्त 1962 में मुंबई में हुआ था। राजीव का एक्टिंग करियर ज्यादा लंबा नहीं चला था। हालांकि उनकी फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ पर्दे पर जबरदस्त हिट हुई थी, लेकिन इसी फिल्म की वजह से पिता राज कपूर और बेटे राजीव कपूर के बीच दरार आ गई थी। इस फिल्म के बाद राजीव अपने पिता से ही नाराज़ हो गए थे और ये नाराज़गी ताउम्र चली, यहां तक की एक्टर ने पिता राज कपूर के अंतिम संस्कार के वक्त भी दूरी बना रखी थी।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by neetu Kapoor. Fightingfyt (@neetu54)

धु जैन की किताब ‘द कपूर्स’ के मुताबिक राज कपूर ने राजीव को ‘राम तेरी गंगा मैली’ में लॉन्च किया। फिल्म पर्दे पर हिट भी रही, लेकिन इसका पूरा क्रेडिट फिल्म की अभिनेत्रा मंदाकिनी को दिया गया। झरने के नीचे नहाती हुई मंदाकिनी ने लोगों के दिल जीत लिया और लोग मंदाकिनी की तारीफ करने लगे । इसी बात को लेकर राजीव कपूर अपने पिता से नाराज़ हो गए। जैसे-जैसे फिल्म की चर्चा बढ़ रही थी वैसे-वैसे बेटे की पिता से नाराज़गी बढ़ रही थी। इस फिल्म के बाद मंदाकिनी को भरपूर शोहरत मिली, लेकिन राजीव कपूर का कुछ खास नाम नहीं हुआ। इसी वजह से बाप-बेटे के बीच अनबन तक की नौबत आ गई।

राजीव को लगने लगा कि इसके पीछे उनके पिता राज कपूर जिम्मेदार हैं, वो चाहते थे कि पिता राजीव कपूर को लेकर एक और फिल्म बनाएं जिसमें वो नायक की तरह दिखाई दें, लेकिन राज कपूर ने ऐसा नहीं किया। राज कपूर ने राजीव कपूर से बतौर असिस्टेंट ही काम करवाया। राज, बेटे से यूनिट का वो काम करवाते थे जो एक स्पॉटब्वॉय या असिस्टेंट करता है। राजीव अपने पिता से इस बात से काफी नाराज़ थे। कहा तो ये तक जाता है कि राजीव कपूर, पिता के अंतिम संस्कार पर भी नहीं पहुंचे थे। ‘राम तेरी गंगा मैली’ के बाद राजीव कुछ और फिल्मों में  भी आए लेकिन वो फिल्म राज कपूर के प्रोडक्शन हाउस की नहीं थीं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button