Top Newsछत्तीसगढ़जुर्मराज्यराष्ट्रीय न्यूज

छत्तीसगढ़ः मानवता हुई शर्मसार, पहले मासूम के साथ बलात्कार किया और फिर पत्थर मारकर की हत्या

16 वर्षीय लड़की के साथ कथित रूप से बलात्कार किया गया और बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई।

देश में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। आए दिन देश में लड़कियों के साथ छेड़खानी व दुष्कर्म के मामले सामने आते रहते है। मगर, प्रशासन चुप्पी सजाए बैठा है।

बता दें, पुलिस ने बुधवार को बताया कि छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में एक 16 वर्षीय लड़की के साथ कथित रूप से बलात्कार किया गया और बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी गई।

सूत्रों के मुताबिक आरोपी ने कथित तौर पर लड़की के पिता और उसकी चार साल की भतीजी को भी मार डाला। कोरबा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने बताया कि घटना 29 जनवरी को लेमरू पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत गढ़ूपुड़ा गाँव के पास घटी थी,लेकिन मंगलवार को सामने आई।

आरोपियों की पहचान संतराम मझवार (45), अब्दुल जब्बार (29), अनिल कुमार सारथी (20), परदेशी राम पनिका (35), आनंद राम पनिका (25) और शंकर यादव (21), सतरेंगा गांव के मूल निवासी के रूप में हुई। मीणा ने कहा- मृतीका बारपानी गांव का निवासी थी, पिछले साल जुलाई से मुख्य आरोपी मंझवार के घर पर मवेशी चराने का काम करती थी।

बताया जा रहा है की 29 जनवरी को अपनी मोटरसाइकिल पर व्यक्ति, अपनी बेटी (16) और पोती (4) को अपने गांव छोड़ने जा रहा था, रास्ते में, वे कोरई गांव में रुक गए और अरोपी मंझवार ने शराब का सेवन किया हुआ था।

रिपोर्ट के अनुसार, आरोपी तीनों पीड़ितों को गढ़ूपारोडा के पास जंगल से घिरी एक पहाड़ी की तलहटी में ले गए, जहाँ मंझवार और एक अन्य आरोपी ने कथित तौर पर किशोरी के साथ बलात्कार किया।

बताया जा रहा है की सभी पीड़ितों को पत्थर और डंडों से पीटा और घटनास्थल से भागने से पहले उन्हें जंगल में फेंक दिया। जिसके बाद जब मृतक के बेटे ने मंगलवार को लेमरू पुलिस स्टेशन में अपने पिता की गुमशुदगी होने की रिपोर्ट दर्ज कराई, तो पुलिस ने कार्रवाई की और छह आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की।

आरोपियों के बयान के आधार पर,पुलिस अपराध स्थल पर पहुंची,जहां उन्होंने घायल बलात्कार पीड़िता को जीवित पाया। जिसे तुरंत स्थानीय अस्पताल ले जाया गया,लेकिन वहां पहुंचने से पहले उसने दम तोड़ दिया।

 

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button