Top Newsपुडुचेरीराज्यराष्ट्रीय न्यूज

पुडुचेरी में कांग्रेस को लगे झटके का तमिलनाडु पर पड़ सकता है असर, समीकरण साधने की कोशिश करेगी भाजपा

पुडुचेरी की राजनीति काफी हद तक तमिलनाडु से प्रभावित होती है और वहां पर द्रमुक और अन्नाद्रमुक का खासा प्रभाव है।

विधानसभा चुनावों के ठीक पहले पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार के पतन से भाजपा को वहां पर तो लाभ मिलने की स्थिति बनी ही है साथ ही तमिलनाडु में भी वह इसका फायदा उठाने की कोशिश करेगी। पुडुचेरी की राजनीति काफी हद तक तमिलनाडु से प्रभावित होती है और वहां पर द्रमुक और अन्नाद्रमुक का खासा प्रभाव है। इस घटनाक्रम से द्रमुक-कांग्रेस गठबंधन को झटका लगा है, जबकि अन्नाद्रमुक-भाजपा गठबंधन को राहत मिली है।

पुडुचेरी में जो स्थितियां हैं उसमें वहां पर राष्ट्रपति शासन लगना तय माना जा रहा है। ऐसे में वहां की उप राज्यपाल का प्रभार संभाल रही तेलंगाना की राज्यपाल तमिलसाई सुन्दरराजन की भूमिका अहम होगी। सुंदरराजन मूल रूप से तमिलनाडु की है और वह लोगों से सीधा संवाद कर भाजपा की मददगार हो सकती हैं। साथ ही तमिलनाडु के लिए भी एक संदेश दे सकती हैं।

भाजपा के एक प्रमुख नेता ने कहा है कि पुडुचेरी से से ज्यादा महत्वपूर्ण तमिलनाडु है। पुडुचेरी में जिस तरह कांग्रेस और द्रमुक का गठबंधन सरकार बचाने में असफल रहा है उससे तमिलनाडु के लोगों में भी इस गठबंधन को लेकर अविश्वास पैदा होगा। दूसरी तरफ सरकार विरोधी माहौल से जूझ रही अन्नाद्रमुक को इससे राहत मिलेगी, क्योंकि भाजपा भी अब उसके गठबंधन में शामिल है। इसलिए दोनों दल विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button